सर्दियों में नॉन-वेज खाने के जानिये क्‍या हैं फायदे!

GoMedii Ad - Buy Medicine Online

सर्दियों में हमें ज्यादा एनर्जी की जरूरत होती है, इसलिए ऐसी चीजें खानी चाहिए जो शरीर को गर्म रखने के साथ-साथ हमारे इम्यून सिस्टम को भी अच्छा रखें।

नॉनवेज खाना हमें सर्दियों में गर्म रखता है, लेकिन रेड मीट (मटन) की बजाय चिकन और फिश पर जोर देना चाहिए। हफ्ते में दो बार चिकन या फिश ले सकते हैं। चिकन में फैटी हिस्से की बजाय पतले हिस्से को ही खाएं। जैसे चिकन में लेग पोर्शन को न खाये, ब्रेस्ट वाले हिस्से को लें। इसमें प्रोटीन और फैट कम होता है, जो मोटापा नहीं बढ़ाता और शरीर को गर्म रखता है। नॉनवेज फ्राई करने की बजाय रोस्ट करके खाएं, क्योंकि यह शरीर के लिए कई मामलों में फायदेमंद होता है।

 

सर्दी व जुकाम में राहत पाने के लिए लोग चिकन सूप का सेवन करे । चिकन सूप की स्टीम यानी भाप से बंद नाक खुल जाती है, और गले का कंजेस्शन भी साफ हो जाता है। एक अध्ययन में यह भी पाया गया है कि नॉन-वेज खाने या चिकन सूप पीने से पाचन क्रिया मजबूत होती है। चिकन में पाया जाने वाला रेटनोल, अल्फा और बीटा केरोटीन, लाइकोपिन और विटामिन ए आंखों की रोशनी को तेज करता है। इसके अलावा चिकन में मौजूद विटामिन ए आंखों में होने वाली विभिन्न समस्याओं से बचाव करता है।

 

सर्दियों में चिकन रोल (chicken roll) , चिकन टिक्का (chicken tikka) और चिकन और खरोड़े के सूप (soup) ना केवल स्वादिष्ट लगता है बल्कि ठंड से लड़ने में भी हमारी मदद करता है। जो की हमारे शरीर के लिए कई मामलों में फायदेमंद भी होता है। और नॉन-वेज हमें गर्म भी रखता है |

 

नॉन-वेज सर्दियों में खाने के फायदे

 

प्रोटीन से भरपूर चिकन :

 

चिकन में पाया जाने वाला प्रोटीन मसल्स को बनाने के लिए अच्छा होता है। इसके अलावा चिकन में बहुत सारे मिनरल पाए जाते हैं, जो हेल्थ के लिए बहुत अच्छे होते हैं। अगर आप वजन कम करने की सोच रहे हैं तो चिकन आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है। इसमें मौजूद हाई प्रोटीन वेट और कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने में हेल्प करता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप बटर और फ्राइ चिकन का जयदा सेवन करे । आप चाहे तो रोस्टेड चिकन या चिकन सूप पी सकते हैं। लेकिन अगर आपने स्वाद-स्वाद में जरूरत से ज्यादा खा लिया तो स्वास्थ के लिए नुकसान हो सकता है। सर्दियों में वैसे ही हम घी और गर्म चीजों को सेवन बहुत ज्यादा करते हैं। लेकिन नॉन-वेज में पहले से ही काफी मात्रा में फैट होता है, इसलिए अगर सोच-समझकर नहीं खाया गया तो वजन कम होने की बजाय बढ़ता चला जाएगा ओर इससे हमारे हृदय (heart) को भी नुकसान हो सकता है।

 

आयरन से भरपूर मटन :

 

मटन में आयरन के साथ-साथ बी-12 और जिंक भी पाया जाता है, जो हमारे तंत्रिका तंत्र (nervous system) के लिए बहुत अच्छा होता है ,साथ ही इम्यू्निटी को मजबूत बनाता है। लेकिन यह रेड मीट की श्रेणी में आता है, और रेड मीट को हेल्थ के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। क्योंकि इसमें फैट की मात्रा बहुत अधिक होती है। पर कभी-कभी इसे खाने में कोई बुराई नहीं है। लेकिन हार्ट पेशेंट और शुगर पेशेंट को इसका सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। उनके लिए हानिकारक हो सकता है |

 

ओमेगा-3 फैटी एसिड वाली मछली :

 

नॉन-वेज में सबसे फायदेमंद मछली होती है, क्योंकि इसमें प्रोटीन, विटामिन के अलावा ओमेगा-3 फैटी एसिड बहुत अधिक मात्रा में होता है। साथ ही यह पचने में भी बहुत आसान होती है। इससे ना केवल आपकी बॉडी बल्कि ब्रेन को भी पूरा पोषण मिलता है। इसमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड आपकी त्वचा और बालों के साथ-साथ आंखों और हड्डियों की मजबूती के लिए भी बहुत अच्छा होता है। इसलिए जो नॉन-वेज नहीं खाते है, वह सर्दियों में फिश ऑयल कैप्सूल लेते है ।

 

लेकिन मछली खरीदते और खाते समय कुछ चीजों का ध्यान रखना बहुत ही जरूरी है। मछली हमेशा ताजी ही खरीदनी चाहिए। इसे बहुत ज्यादा नहीं पकाना चाहिए। आप चाहे तो इसे सिर्फ स्टीम करके भी बना सकते हैं। मछली के साथ दूध का सेवन नहीं करना चाहिए। इससे आपके पेट में गड़बड़ी हो सकती है। एक बात ओर छोटे बच्चों को फिश हमेशा कांटा निकल कर ही देनी चाहिए नहीं तो कांटा उनके गले में फंस सकता है। सल्मोन (Salmon), सिंघाड़ा और रोहू मछली ही सबसे बेहतर मानी जाती है।

 

अंडे का सेवन करे :

 

कुछ लोग चिकन, मटन या फिश खाना पसंद नहीं करते , लेकिन अंडे खाते है। ऐसे लोग जो सर्दियों में उबले अंडे के ऊपर प्याज, हरी मिर्च और हरा धनिया डालकर खाना बहुत पसंद करते है। अंडा चाहे आप उबालकर खाएं या आमलेट या सब्जी बनाकर अंडा हर रूप में फायदेमंद होता है। अंडे की जर्दी में विटामिन डी पाया जाता है, जो हड्डियों को मजबूती देता है। साथ ही अंडों में विटामिन ए भी बहत अधिक मात्रा में होता है जो बालों को मजबूती और आंखों की सेहत के लिए अच्छा होता है। इसके अलावा अंडे खाने से हमारी बॉडी को जरूरी अमीनो एसिड मिलता है, जिससे स्टेमिना बढ़ता है।

 

लेकिन अंडे के सेवन में कुछ सावधानी बरतना बहुत जरूरी है, जैसे हाई ब्लड प्रेशर , डायबिटीज और हार्ट पेशेंट को इसे खाने से बचना चाहिए। अगर आप अपना वजन कम करना चाहते है तो अंडे के योक को खाने से बचे, और सफेद हिस्से को ही खाए । कच्चे और अधपके अंडे से साल्मोनेला इंफेक्शन होने का खतरा रहता है, इसलिए इसे अच्छी तरह से पका कर ही खाना चाहिए। इसे ठण्ड में खाने से हमारा शरीर गर्म रहता है और बहुत फायदेमंद भी होता है |इसलिए हमें ऐसी चीजें खानी चाहिए जो हमारे शरीर को गर्म रखने में मदद करे |


Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


   
GoMedii - Buy Medicine Online