डायबिटीज से फेफड़े की बीमारी होने का ज्यादा खतरा – शोध

GoMedii Ad - Buy Medicine Online

डायबीटीज (Diabetes) रहित लोगों की तुलना तुलना में टाइप-2 डायबीटीज (Type-2 diabetes) से पीड़ित लोगों में रिस्ट्रिक्टिव लंग्स डिजीज (Restrictive Lungs Disease) यानी फेफड़ों की बीमारी  होने का जोखिम ज्यादा होता है। इस बीमारी की पहचान सांस फूलने से की जाती है। जर्मनी के हेडेलबर्ग अस्पताल विश्वविद्यालय के स्टीफन कोफ ने कहा, ‘तेजी से सांस फूलना, RLD (Restrictive Lungs Disease)  और फेफड़ों की विसंगतियां, टाइप-2 डायबीटीज से जुड़ी हैं।’ जानवरों पर किए गए पहले के निष्कर्षों में भी रिस्ट्रिक्टिव लंग्स डिजीज और डायबीटीज के  बीच संबंध का पता चला था।

 

फेफड़े और किडनी की बीमारी का खतरा

 

Diabetics

 

विश्वविद्यालय के प्रफेसर पीटर पी. नवरोथ ने कहा, ‘हमे संदेह है कि फेफड़े (Lungs) की बीमारी टाइप-2 डायबीटीज (Type-2 diabetes) का देर से आने वाला परिणाम है।’ शोध से पता चलता है कि RLD एल्बूमिन्यूरिया (Albuminuria) के साथ जुड़ा है। एल्ब्यूमिन्यूरिया एक ऐसी स्थिति है, जिसमें पेशाब का एल्ब्यूमिन (Albumin) स्तर बढ़ जाता है। यह फेफड़े की बीमारी व गुर्दे (Kidney) की बीमारी के जुड़े होने का संकेत हो सकता है, जो कि नेफ्रोपैथी (Nephropathy) से जुड़ा है। नेफ्रोपैथी-डायबीटिक किडनी से जुड़ी बीमारी है।

 

110 मरीजों के आंकड़ों के आधार पर निकले नतीजे

 

lung disease

 

शोध के निष्कर्षों का प्रकाशन ‘रेस्पिरेशन’नाम की पत्रिका में किया गया है। इसमें टाइप-2 डायबीटीज वाले 110 मरीजों के आंकड़ों का विश्लेषण किया गया। इसमें 29 मरीजों में हाल में टाइप-2 डायबीटीज का पता चला था, 68 मरीज ऐसे थे, जिन्हें पहले से डायबीटीज था और 48 मरीजों को डायबीटीज नहीं था।

GoMedii - Buy Medicine Online