क्या है कार्पल टनल सिंड्रोम – जाने इसके लक्षण, कारण और दर्द से बचने के उपाय

GoMedii Ad - Buy Medicine Online

आजकल के बदलते दौर में और बढ़ती व्यस्तता के कारण लोगो में बहुत सारी स्वास्थ्य समस्याएं होने लगी है। जिसमे से एक समस्या कार्पल टनल सिंड्रोम है। यह सिंड्रोम नर्व पर पड़ने वाले दबाव से होने वाली परेशानी है। ज्यादातर यह हाथ की उंगली और कलाई को अपना शिकार बनाती है, लेकिन कई बार दर्द बाहों तक भी पहुंच जाता है।

 

कार्पल टनल सिंड्रोम होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे – कम्प्यूटर पर लगातार काम करने से कलाई पर दबाव पड़ना, गर्भावस्था के दौरान शरीर में फ्लूइड की कमी, या फिर रूमेटॉइड आर्थराइटिस जैसी बीमारी आदि।

 

कार्पल टनल सिंड्रोम क्या है?

 

ये सिंड्रोम आपके एक या दोनों हाथों में हो सकता है। यह हाथ और कलाई में होने वाला दर्द है। कार्पल टनल हड्डियों और कलाई की अन्य कोशिकाओं द्वारा बनाई गई एक संकरी नली होती है, जो की हमारी मीडियन नर्व की सुरक्षा करती है। और यह मीडियन नर्व हमारे अंगूठे, मध्य और अनामिका उंगलियों से जुड़ी होती है। लेकिन कार्पल टनल में जब अन्य कोशिकाएं, जैसे कि – लिगामेंट्स और टेंडन सूजन या फूल जाते हैं, तो इसका प्रभाव मध्य कोशिकाओं पर पड़ता है। इस दबाव के कारण हाथ सुन्न होने लग सकता है। यह सिंड्रोम ज्यादा गंभीर नहीं होती है। और इलाज के साथ,दर्द ठीक भी हो जाती है, इसलिए कोई समस्या होने पर डॉक्टर से जांच जरूर करा ले।

 

कार्पल टनल सिंड्रोम का क्या कारण है?

 

 

  • थायराइड की शिथिलता,

 

  • गर्भावस्था या रजोनिवृत्ति से द्रव प्रतिधारण,

 

  • उच्च रक्त चाप,

 

  • रुमेटीइड गठिया जैसे ऑटोइम्यून विकार,

 

  • कलाई पर चोट लगने से ,

 

  • माउस और कीबोर्ड के उपयोग के दौरान खराब कलाई पोजीशनिंग,

 

कार्पल टनल सिंड्रोम के लिए कौन जोखिम में है?

 

पुरुषों की तुलना में महिलाओं में कार्पल टनल सिंड्रोम होने की संभावना तीन गुना अधिक होती है।  कुछ स्थितियाँ इसे विकसित करने के लिए आपके जोखिम को बढ़ाती हैं, जिसमें मधुमेह, उच्च रक्तचाप और गठिया शामिल हैं।

 

लाइफस्टाइल कारक जो कार्पल टनल सिंड्रोम के लिए जोखिम बढ़ा सकते हैं, उनमें धूम्रपान, उच्च नमक का सेवन, गतिहीन जीवन शैली और एक उच्च बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) शामिल हैं।

 

इस बीमारी को मीडियन नर्व कम्प्रेशन भी कहते हैं। भारत में प्रतिवर्ष 1 करोड़ से अधिक लोग इससे पीड़ित होते हैं।

 

कार्पल टनल सिंड्रोम के लक्षण क्या हैं?

 

  • सुन्नता और आपके अंगूठे में दर्द,

 

  • रात को कलाई में दर्द जो नींद में बाधा डालता है,

 

 

  • कलाई और हाथ में दर्द,

 

  • त्वचा की शुष्कता,

 

कार्पल टनल सिंड्रोम का निदान कैसे किया जाता है?

 

  • डॉक्टर आपके इतिहास, शारीरिक परीक्षा और तंत्रिका चालन नामक परीक्षणों का उपयोग करके कार्पल टनल सिंड्रोम का निदान कर सकते हैं।

 

  • शारीरिक परीक्षा में तंत्रिका दबाव के किसी भी अन्य कारणों की जांच के लिए आपके हाथ, कलाई, कंधे और गर्दन का विस्तृत मूल्यांकन शामिल है। डॉक्टर से आप हाथ में उंगलियों और मांसपेशियों की ताकत के लिए सनसनी की जांच करा सकते है।

 

  • तंत्रिका चालन अध्ययन नैदानिक परीक्षण हैं, जो आपके तंत्रिका आवेगों की चालन गति को माप सकते हैं। यदि तंत्रिका आवेग सामान्य से धीमा है, तो आपको कार्पल टनल सिंड्रोम हो सकता है।

 

  • कलाई पर बर्फ रखकर मालिश कर सकते हैं, इससे दर्द में बहुत राहत मिलती है.

 

  • व्यायाम न करने से कलाई कठोर  हो सकती है, इसलिए सुबह उठ कर रोज व्यायाम करे.

 

कार्पल टनल सिंड्रोम को कैसे रोका जा सकता है?

 

  • आप जीवन शैली में बदलाव करके कार्पल टनल सिंड्रोम को रोक सकते हैं।

 

  • गठिया जैसी बीमारियों का इलाज कराना, कार्पल टनल सिंड्रोम के विकास को कम करता है।

 

  • भौतिक चिकित्सा भी कार्पल टनल सिंड्रोम जैसी बीमारियों को ठीक करने में सहायक हो सकते हैं।

 

कार्पल टनल के दर्द के लिए प्राकृतिक उपाय

 

  • सही पोश्चर को अपनायें,

 

  • रोज एक्सरसाइज करने से कार्पल टनल सिंड्रोम के दर्द को काबू किया जा सकता है,

 

 

  • कलाइयों पर ज्यादा दबाव से बचें,

 

  • इंटर फेशियल थेरेपी के माध्यम से भी इसका इलाज किया जाता है।

 

यदि आपको कार्पल टनल सिंड्रोम के लक्षण लगातार नजर आ रहे है, जो आपकी दैनिक गतिविधियों में बाधा डाल रहा है, जैसे की – झुनझुनी और गुदगुदी का एहसास और कलाई और हाथ में दर्द होना, अगर ये सारी समस्या नजर आ रही हो, तो आप तुरंत ऑर्थोपेडिक डॉक्टर से सम्पर्क करे और उनसे जांच कराएं।


Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


   
GoMedii - Buy Medicine Online