बच्चों में कैंसर होने के कारण और ऐसे करें देखभाल !

GoMedii Ad - Buy Medicine Online

कैंसर एक जानलेवा बीमारी है। पहले के समय में इस बीमारी की समस्या एक उम्र के बाद ही सुनने को मिलती थी, पर आजकल कैंसर रोग इतना आम हो गया है की , छोटे बच्चे भी इस बीमारी के शिकार होते जा रहे है. बच्चों में कैंसर होने से , उसकी जिंदगी किशोरावस्था शुरू होने से पहले ही खत्म हो जाती है।

 

बच्चों में कैंसर होने के पहले से कोई लक्षण नजर नहीं आते , जिन्हें देखकर या पहचान कर कैंसर का पता लगाया जा सकें। बच्चों में होने वाले कैंसर के आम प्रकार जैसे की – ल्यूकेमिया यानी अधिश्वेत रक्तता , ब्रेन ट्यूमर, लिम्फोमा और सॉफ्ट टिश्यू सर्कोमा जैसे कैंसर होते है।

 

इन उपाय को अपनाकर हम अपने बच्चों को भविष्य में होने वाले कैंसर से सुरक्षित रख सकते हैं 

 

हरी सब्जियों और ताजे फल

 

  • बच्चों में शुरू से ही हरी सब्जियों और ताजे फलों को खाने की आदत डालें। जिससे उनके शरीर को मिनरल और विटमिन मिलेगा। सब्जियों और फलों की प्रकृति क्षारीय होती है जो बच्चों में कैंसर होने से बचाती है।

 

  • हरी सब्जियों में बहुत सारे गुण होते हैं जो शरीर को काफी मजबूत बना देते हैं। इसमें विटामिन सी भी होता है , जो शरीर को कैंसर जैसी घातक बीमारी होने से भी लड़ने की क्षमता प्रदान करता है।

 

 

हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाएं

 

अगर आप चाहते हैं कि आपके बच्चों में कैंसर जैसी समस्या ना हो और वह स्वस्थ रहें तो आपको खुद हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाकर उनके सामने उदाहरण प्रस्तुत करना होगा, जैसे की – समय पर सोना, समय पर उठना, नशे से दूर रहना, रोज सुबह नियमित रूप से व्यायाम करना, स्वस्थ भोजन करना ये सब अच्छी जीवनशैली के उदाहरण हैं। आपके साथ आपके बच्चे भी ऐसा ही करेंगे और जीवन भर इन अच्छी आदतों के बल पर कैंसर जैसी बीमारी से दूर रहेंगे।

 

 

ज्यादा चीनी और नमक का सेवन न करे

 

आप बच्चों को रिफाइंड , चीनी और तेज नमक से बनी चीजें न खिलाएं। इसका अधिक सेवन करने से शरीर में अम्लीयता बढ़ती है , जो ले सकता है कैंसर का रूप। शरीर में अम्लीयता कैंसर कोशिकाओं को बढ़ावा देती है। ज्यादा चीनी और नमक का सेवन करने से कैंसर के अलावा हाई बीपी और डायबीटीज जैसी बीमारियों का खतरा बना रहता है।

 

 

वजन को न बढ़ने दे

 

  • हमेशा स्वस्थ भोजन कराएं, और जंक फूड से दूर रखें। इस तरह के खाने में फैट, शुगर और नमक की बहुत अधिक मात्रा होती है। इससे बचपन में ही बच्चे मोटापे का शिकार होने लगते हैं।

 

  • मोटापा कैंसर की एक बड़ी वजह है, जिस वजह से बच्चों में कैंसर होने की संभावना हो सकती है। इसलिए खुद भी स्वस्थ आहार खाये और अपने बच्चो को भी खिलाये।

 

 

बच्चों में कैंसर होने पर निम्नलिखित प्रकार से देखभाल की जा सकती है , जैसे की –

 

 

पल्लीएटिव केयर

 

  • पल्लीएटिव केयर में  देखभाल होने पर कैंसर के लक्षण और साइड इफेक्ट कम हो जाते हैं।

 

  • छोटी उम्र में होने वाला कैंसर बहुत ही तकलीफदेह होता है। पल्लीएटिव केयर में बच्चे और उसके परिजनों की मनोवैज्ञानिक, सामाजिक और आध्यात्मिक तरीके से देखभाल की जाती है। हालांकि इससे कैंसर का उपचार तो नहीं होता, लेकिन इससे राहत जरूर मिलती है।

 

 

कैंसर के रोगी के साथ जिंदगी जीना और तालमेल बनाएं रखना काफी मुश्किल भरा होता है। साथ ही छोटी उम्र में कैंसर होने पर उसकी देखभाल करना निराशाजनक भी होता है। आजकल के वातावरण का प्रदूषण और खानपान की चीजों पर हानिकारक केमिकल का असर देखकर डर लगता है कि हम कहीं आने वाली पीढ़ी को विरासत में कैंसर तो नहीं दे रहे हैं। पर हम बच्चों में सही जीवनशैली की आदत डाले तो इन्हे कैंसर जैसी बीमारी से दूर किया जा सकता है। ऐसे समय में बच्चो का ख़ास ख्याल रखना चाहिए और बहुत प्यार के साथ उनकी केयर करनी चाहिए।

 


Disclaimer: GoMedii  एक डिजिटल हेल्थ केयर प्लेटफार्म है जो हेल्थ केयर की सभी आवश्यकताओं और सुविधाओं को आपस में जोड़ता है। GoMedii अपने पाठकों के लिए स्वास्थ्य समाचार, हेल्थ टिप्स और हेल्थ से जुडी सभी जानकारी ब्लोग्स के माध्यम से पहुंचाता है जिसको हेल्थ एक्सपर्ट्स एवँ डॉक्टर्स से वेरिफाइड किया जाता है । GoMedii ब्लॉग में पब्लिश होने वाली सभी सूचनाओं और तथ्यों को पूरी तरह से डॉक्टरों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा जांच और सत्यापन किया जाता है, इसी प्रकार जानकारी के स्रोत की पुष्टि भी होती है।


   
GoMedii - Buy Medicine Online